केंद्र सरकार दे रही किसानों को धोखा : आर्य

02-Nov-2014 ||    करनाल ||   

केंद्र सरकार दे रही किसानों को धोखा : आर्य करनाल(भवदीय प्रभात) । करनाल में भारतीय किसान यूनियन हरियाणा की आपात बैठक किसान भवन करनाल में हुई जिसमें सभी जिलों के प्रधानों ने भाग लिया। मीटिंग में किसानों की समस्याओं पर विचार किया गया। मीटिंग की अध्यक्षता प्रदेशाध्यक्ष सेवा सिंह आर्य ने की। मीटिंग में केंद्र सरकार की किसान विरोधी नीति का खुलकर विरोध किया गया। किसानों ने सोचा था कि नई सरकार आयेगी और किसानों का भी भला होगा। जैसे सरकार के घोषणा पत्रों में बार-बार कहा जा रहा था कि हम किसानों को उनकी फसलों के लागत के आधार पर लाभकारी मूल्य देंगे। इस वर्ष पहले प्राकृतिक मार किसानों को सहनी पड़ी, बारिश न होने के कारण किसानों ने धान को तैयार करने के लिए तीन गुणा तक अधिक खर्चा करके फसल को बचाया। जब पकने का समय आया तो प्राकृतिक की दोबारा फिर मार पड़ी। बेमौसमी बारिश ने किसानों की फसलों को तबाह करके रख दिया। अब किसानों की फसलें मंडियों में आई तो सरकार व साहूकार ने मिलकर किसानों को बुरी तरह से लूट लिया। सरकार इसमें असमर्थता जाहिर करती हुई कहती है कि हम देखेंगे। जब तक सरकार देखेंगी तो किसानों की पूरी फसल लूट ली जायेगी। पिछले वर्ष जो फसल 6000 रुपये प्रति च्ंिटल बिकी थी इस वर्ष मात्र 3000 रुपये में बासमती की फसल लूटी जा रही है। 1121 पिछले वर्ष 4400 रुपये बिकी थी, इस वर्ष 2500 से 3000 तक लूट ली गई। जिससे किसानों को आर्थिक हानि हुई है और किसान आढ़तियों व बैंक से लिए गए कर्जे को चुकाने में असमर्थ हैं। इससे किसान पर कर्जा बढ़ेगा।

  बड़ी खबर

Image

ट्रेन हादसे में 91 लोगों की मौत

नई दिल्ली। उत्तर प्रेदश के पुखरायां में इंदौर से पटना जा रही इंदौर-राजेंद्रनगर एक्सप्रेस के 14 डिब्बे पटरी से उतर गए हैं। इस बड़े ट्रेन हादसे में अब तक 63 लोगों के मारे जाने की खबर है वहीं 150 से ज्या

...विवरण पढ़े

~   ट्रेन हादसे में 91 लोगों की मौत

~   संसद जैसा विधानमंडल का सेंट्रल हॉल

~   'बिहार का हौसला व मनोबल बुलंद'

~   उत्तर भारत में भूकंप के तेज झटके

~   कोर्ट से राहुल गांधी को मिली जमानत

~   संसद से सड़क तक ‘नोटबंदी’ पर संग्राम

~   'बेनामी संपत्ति पर हमला करे केंद्र'

~   हर घर बिजली योजना का शुभारंभ

~   सेनारी कांडः 10 को फांसी, 3 को उम्रकैद

~   जाकिर की संस्‍था पर पांच साल का बैन