बासी भात खाने के 6 फायदे

20-Sep-2016 ||    ||   

बासी भात खाने के 6 फायदे नई दिल्ली। अगर आपकी मां आपको बासी भात या एक दिन पहले का भोजन खाने को कहे तो इसमें आश्चर्यचकित न हों। निश्चित रूप से, भोजन को कभी बर्बाद नहीं करना चाहिए। क्या यह सही है ना? लेकिन इससे अलग अधिक ध्यान देने वाली बात यह है कि बासी भात आपके हेल्थ के लिए बहुत ही लाभदायक है। जब भोजन रातभर छोड़ दिया जाता है तो उसमें केमिकल रिएक्शन होता है। जब मिट्टी के बर्तन में बासी भात को रातभर रखा जाता है तब उसमें अगली सुबह तक फर्मेंट होता है। उसके बाद यह भात कई हेल्थ फायदे दे सकते हैं। कुछ फादये नीचे दिये गए हैं। चूंकि भात (चावल) प्राकृतिक शीतलक है। यह शरीर के तापमान को कम करता है और आपको कूल बनाये रखता है, अगर इसे नियमित रूप से खाया जाए तो। सुबह में भात खाने से पेट की हानिकारक बीमारियां दूर रह सकती हैं। शरीर में अत्यधिक गर्मी होती है जिसे भात बेअसर करेगा। सप्ताह में तीन बार या तीन दिन बासी भात खाने से अल्सर जैसी बीमारी से मुक्ति पाने में काफी मदद मिल सकती है। यह जवान और चमकदार लुक बनाए रखने में मदद कर सकता है। चूंकि बासी भात में सूक्ष्म पोषक तत्व और खनिज अत्यधिक मात्रा में पाये जाते हैं। जैसे आयरन, पोटेशियम, कैल्सियम। अध्ययन के अनुसार रोज भात खाने से हेल्दी रहने में मदद मिलती है। बासी भात खाने से आपको स्लिम बने रहने में मदद मिल सकती है। क्योंकि भात रातभर में काफी ठंडा हो जाता है और उसमें से 60% कैलोरी कम हो जाता है। 100 ग्राम बासी भात में से 130 कैलोरी कम हो जाता है और सिर्फ 52 कैलोरी ही बचता है। लेकिन सही तरीके के चावल को पकाया जाय। यह अमेरिकी केमिकल सोसायिटी की रिसर्च है।

  बड़ी खबर

Image

ट्रेन हादसे में 91 लोगों की मौत

नई दिल्ली। उत्तर प्रेदश के पुखरायां में इंदौर से पटना जा रही इंदौर-राजेंद्रनगर एक्सप्रेस के 14 डिब्बे पटरी से उतर गए हैं। इस बड़े ट्रेन हादसे में अब तक 63 लोगों के मारे जाने की खबर है वहीं 150 से ज्या

...विवरण पढ़े

~   ट्रेन हादसे में 91 लोगों की मौत

~   संसद जैसा विधानमंडल का सेंट्रल हॉल

~   'बिहार का हौसला व मनोबल बुलंद'

~   उत्तर भारत में भूकंप के तेज झटके

~   कोर्ट से राहुल गांधी को मिली जमानत

~   संसद से सड़क तक ‘नोटबंदी’ पर संग्राम

~   'बेनामी संपत्ति पर हमला करे केंद्र'

~   हर घर बिजली योजना का शुभारंभ

~   सेनारी कांडः 10 को फांसी, 3 को उम्रकैद

~   जाकिर की संस्‍था पर पांच साल का बैन