16 सितंबर से पितृपक्ष आरंभ

12-Sep-2016 ||    ||   

16 सितंबर से पितृपक्ष आरंभ नई दिल्ली। शास्त्रों के अनुसार पितरों के चरणों में स्वर्ग है- जिसने इस बात को जान लिया है वह सदा ही न केवल अपने घर के बुजुर्गों का आदर-सम्मान करता है बल्कि पितरों को प्रसन्न करने के लिए विधिवत श्राद्ध कर्म करके उनका अनमोल आशीर्वाद प्राप्त करता है। स्कंद पुराण के अनुसार पितरों के आशीर्वाद से कुछ भी असम्भव नहीं है जहां पितरों की पूजा होती है वहां देवताओं का वास है। माता-पिता की सेवा करने वाले पुत्र पर भगवान विष्णु की अपार कृपा सदा बनी रहती है। पुत्रों के लिए माता-पिता से बढ़कर दूसरा कोई तीर्थ नहीं। जो सच्ची भावना से अपने पितरों के निमित्त विधिवत श्राद्ध करते हैं उनके घर में आयु, संतान सुख, समृद्धि एवं खुशहाली बनी रहती है। उनके घर में धन वैभव बना रहता है। वह कभी क्रोध नहीं करते तथा संयम से प्रत्येक कार्य करते हैं। उनके किसी भी कार्य में कभी कोई रुकावट नहीं आती। इसे ब्राह्मण या किसी सुयोग्य कर्मकांडी द्वारा करवाया जा सकता है। आप स्वयं भी कर सकते हैं। ये सामग्री ले लें- सर्प-सर्पिणी का जोड़ा, चावल, काले तिल, सफेद वस्त्र,11 सुपारी, दूध, जल, तथा माला। पूर्व या दक्षिण की ओर मुंह करके बैठें। सफेद कपड़े पर सामग्री रखें। 108 बार माला से जाप करें या सुख शांति, समद्धि प्रदान करने तथा संकट दूर करने की क्षमा याचना सहित पितरों से प्रार्थना करें। जल में तिल डाल कर 7 बार अंजलि दें। शेष सामग्री को पोटली में बांध कर प्रवाहित कर दें। हलवा, खीर, भोजन आदि ब्राह्मण, निर्धन, गाय, कुत्ते, पक्षी को दें।

  बड़ी खबर

Image

ट्रेन हादसे में 91 लोगों की मौत

नई दिल्ली। उत्तर प्रेदश के पुखरायां में इंदौर से पटना जा रही इंदौर-राजेंद्रनगर एक्सप्रेस के 14 डिब्बे पटरी से उतर गए हैं। इस बड़े ट्रेन हादसे में अब तक 63 लोगों के मारे जाने की खबर है वहीं 150 से ज्या

...विवरण पढ़े

~   ट्रेन हादसे में 91 लोगों की मौत

~   संसद जैसा विधानमंडल का सेंट्रल हॉल

~   'बिहार का हौसला व मनोबल बुलंद'

~   उत्तर भारत में भूकंप के तेज झटके

~   कोर्ट से राहुल गांधी को मिली जमानत

~   संसद से सड़क तक ‘नोटबंदी’ पर संग्राम

~   'बेनामी संपत्ति पर हमला करे केंद्र'

~   हर घर बिजली योजना का शुभारंभ

~   सेनारी कांडः 10 को फांसी, 3 को उम्रकैद

~   जाकिर की संस्‍था पर पांच साल का बैन