सानिया-बोपन्ना-पेस दूसरे दौर में

01-Sep-2016 ||    ||   

सानिया-बोपन्ना-पेस दूसरे दौर में नई दिल्ली। भारतीय टेनसी खिलाड़ी लिएंडर पेस, रोहन बोपन्ना और महिला युगल की दुनिया की नंबर वन खिलाड़ी सानिया मिर्ज़ा ने इस साल के आखिरी ग्रैंड स्लैम 'यूएस ओपन टेनिस टूर्नामेंट' के दूसरे दौर में प्रवेश कर लिया है। इन खिलाड़ियों ने अपने-अपने युगल मैच में जीत दर्ज कर दूसरे दौर में प्रवेश हासिल किया है। सानिया मिर्ज़ा का चेक गणराज्य की बारबोरा स्ट्राइकोवा के साथ यह पहला ग्रैंड स्लेम है। इनकी जोड़ी ने अमेरिका की जाडा मी हार्ट और एना शिबारा को एक घंटे नौ मिनट तक चले मैच में 6-3, 6-2 से हराया है। सानिया और बारबोर को अपने दूसरे दौर में स्विजरलैंड की विक्टोरिजा गोलुबिक और अमेरिका की निकोल मेलिचार तथा अमेरिका की मैडिसन ब्रेनगले और जर्मनी की तात्जाना मारिया की जोड़ी में विजेता जोड़ी के साथ मुकाबला होगा। वही पेस और स्विजरलैंड की मार्टिर्ना हंगिस ने अमेरिका की साशिया विर्की और फ्रांसिस टियाफोए की जोड़ी को मात्र 51 मिनट में 6-3, 6-2 से हराकर दूसरे दौर में अपनी जगह बनाई है। इस जोड़ी को अगले मुकाबले में अनास्तासिया रोडिनोवा तथा जुआन सेबेस्टियन काबल और अमेरिका की कोको वेंडेवेगे तथा राजीव राम के बीच की विजेता जोड़ी का सामना करना पड़ेगा। पुरूष युगल के मैच में रोहन बोपन्ना और डेनमार्क के फ्रेडरिक नीलसन की जोड़ी ने अपने शानदार प्रदर्शन के साथ 16वीं सीड चेक गणराज्य के रादेक स्तेपानेक और सर्बिया के नेनाद जिमोनजिच को 6-3, 6-7, 6-3 से हराया। इनका अगला मुकाबला अमेरिका के ब्रायन बेकर और न्यूजीलैंड के मार्कस डेनिएल के साथ होगा।

  बड़ी खबर

Image

ट्रेन हादसे में 91 लोगों की मौत

नई दिल्ली। उत्तर प्रेदश के पुखरायां में इंदौर से पटना जा रही इंदौर-राजेंद्रनगर एक्सप्रेस के 14 डिब्बे पटरी से उतर गए हैं। इस बड़े ट्रेन हादसे में अब तक 63 लोगों के मारे जाने की खबर है वहीं 150 से ज्या

...विवरण पढ़े

~   ट्रेन हादसे में 91 लोगों की मौत

~   संसद जैसा विधानमंडल का सेंट्रल हॉल

~   'बिहार का हौसला व मनोबल बुलंद'

~   उत्तर भारत में भूकंप के तेज झटके

~   कोर्ट से राहुल गांधी को मिली जमानत

~   संसद से सड़क तक ‘नोटबंदी’ पर संग्राम

~   'बेनामी संपत्ति पर हमला करे केंद्र'

~   हर घर बिजली योजना का शुभारंभ

~   सेनारी कांडः 10 को फांसी, 3 को उम्रकैद

~   जाकिर की संस्‍था पर पांच साल का बैन